समर्थक

रविवार, 31 मई 2015

Truer Times



स्वागत् है आपका SwaSaSan पर... एवम् अपेक्षित हैं समालोचना/आलोचना के चन्द शब्द...

Truer Times



स्वागत् है आपका SwaSaSan पर... एवम् अपेक्षित हैं समालोचना/आलोचना के चन्द शब्द...

Truer Times



स्वागत् है आपका SwaSaSan पर... एवम् अपेक्षित हैं समालोचना/आलोचना के चन्द शब्द...

मंगलवार, 19 मई 2015

शनिवार, 9 मई 2015

विकास चाहिए या विनाश?


प्रकृति की सर्वोत्तम कृति था इन्सान!
प्रकृति की गोद में पलते हुए धीरे-धीरे विकसित होते-होते
प्रकृति प्रदत्त प्रज्ञान के अभिमान से 
प्रकृति से ही प्रतिद्वंदिता करने लगा!!!
प्रकृति का निर्विवाद सर्व-स्वीकार्य तथ्य है कि-
प्रकृति ने एक साथ स्त्री और पुरुष दोनों को रचा 
इस विचार के साथ कि दोनों मिलकर ही सार्थक हैं, सम्पूर्ण हैं....
पृथक-पृथक निरर्थक!
एक दूसरे के विरुद्ध होकर केवल विनष्ट...
हर विवेकी "व्यक्ति" को अपने-अपने विवेक से विचारना ही चाहिये कि
हमें विकासोन्मुख होना है या विनासोन्मुख!
.                                              -सत्यार्चन

Translate