समर्थक

शुक्रवार, 26 अप्रैल 2013

Earthquake Alarming 8-Charchit Predictions-24

SwaSaSan Welcomes You...
पिछले 10 मार्च, 07 अप्रेल और 22 अप्रेल को
चेतावनी पोस्ट की गई थीं (क्लिक कर जाँचिये ...)
http://swasaasan.blogspot.com/2013/04/charchit-predictions-23.html
जिनमें उत्तरी भारत में भूकंप की  आशंका व्यक्त की गई थी ....
जम्मू काश्मीर क्षेत्र में (केंद्र हिंद्कुश में )
5.8  तीव्रता का, इरान केन्द्रित दिल्ली तक के
और 24 अप्रेल के अफगान, पाक केन्द्रित  विस्तृत  भूकंप आने पर
ये  आशंकाएं सत्य प्रमाणित हुईं !
भारतीय क्षेत्र में भूकंप के सम्बन्ध में
कुल 7 भविष्यवाणियाँ इस साईट पर की गईं
जिनमें से सभी (आंशिक या पूर्ण)
सटीक  भविष्यवाणियाँ सिद्ध हुईं !
.
( 10  मार्च २013 की लिंक  Prediction By Charchit-21 )

(22 अप्रेल लिंक
http://swasaasan.blogspot.com/2013/04/charchit-predictions-23.html)
भारत में अगले भूकंप से बड़े नुक्सान की आशंका है!
उत्तरपूर्व से मध्य भारत होकर दक्षिण पश्चिम तक प्रभावित् होने की संभावना है !
जिसकी तीव्रता मध्यम, 4 से 7  के बीच,  रहना संभावित है!

'स्वसासन' का उद्देश्य डराने का कतई नहीं है किन्तु आगाह करने का कर्त्तव्य निर्वाह मात्र है !
पिछले अनुमानों के सत्य निकलने के आधार पर
यह पूर्वानुमान सार्वजनिक कर रहा हूँ
और
भयभीत होने के स्थान पर सावधान रहने की प्रार्थना भी !
अगले 3 -21   दिनों के अन्दर
भारत के आंशिक मध्य  (पश्चिमी  मध्य भारत ) भूभाग सहित 4 से अधिक तीब्रता वाले
भूकंप के आगमन की
अथवा
 से भारत के इस भूभाग के
वातावरण के प्रभावित होने की संभावना है !
सावधानी अपेक्षित !
वैधानिक चेतावनी -
'स्वसासन' का यह सूचना जारी करने का उद्देश्य मात्र 'जन-मंगल' है !
यह केवल एक अनुमान है सत्य निकलने की कोई निश्चितता नहीं!
इसीलिये मात्र सावधान रहने की प्रार्थना है!
इस सूचना के पढ़ने/सुनने/या जानने / से किसी को भी किसी भी प्रकार की क्षति
का उत्तरदायित्व 'स्वसासन' का नहीं होगा!

रविवार, 14 अप्रैल 2013

PHILOSOPHY ON LOVE

SwaSaSan Welcomes You.  
प्रचलित मायनों में प्रेम का अर्थ स्त्री-पुरुष प्रेम संबंध है!
कुछ हद तक ठीक भी है ....
क्योंकि प्रेम का सर्वाधिक महत्वपूर्ण रिश्ता भी यही है!
इस विषय पर ढेरों किताबें लिखी जा चुकी हैं 
फिर भी कुछ ना कुछ कहने योग्य सदैव शेष है ;
चर्चित प्रेम दर्शनानुसार 
1.
जब तक दोनों केवल एक दूसरे से मिलने/ को देखने 
में खुशियाँ 
खोजते रहते हैं ....
प्रेम अंकुरण की स्थिति में होता है !
2.
जब दोनों केवल एक दुसरे की 
खुशी में ही सुख पाने लगते हैं .....
प्रेम पल्लवित हो चुका होता है!
3.
फिर जब प्रेम पादप को सीधे खड़े रहने
या लता की तरह बढ़ने के लिए,
यानी खुश रहने के लिए
एक-दूजे के अतिरिक्त 
थिएटर / पिज्जा हट/  पिकनिक /जल-बिहार/ बनाव श्रृंगार/ उपहार/
टी व्ही/फ्रिज/ए सी जैसे विभिन्न उप-साधनों की भी 
आवश्यकता पड़ने लगती है .....
तब प्रेम प्रौढ़ हो चुका होता है!
4.
जब एक दूजे और इन उप-साधनों के अतिरिक्त
बारम्बार तीसरे पक्ष की मध्यस्थता से
खुशी मिलने लगती है ...
तब इस प्रेम-बिटप में पतझड़ 
का प्रारम्भ हो चुका होता है!
(इसके बाद प्रेम-बिटप के पुनर्पल्लवन/पुनर्जीवन हेतु 
विशेष प्रयास की आवश्यकता होती है   !) 
5.
जब प्रेमान्कुरण से पतझड़ के बीच के किसी भी समय में
दोनों में से कोई एक या दोनों ही
किसी तीसरे में  
खुशियाँ तलाशने लगते हैं ...
तब प्रेम-बिटप मृत्यु शैय्या पर लेटा हुआ होता है!
जिसमें पुनर्जीवन की संभावनाएं अशेष सी होती हैं 
और किसी भी पल प्रेम-पादप 
बाहरी सुनामी का शिकार हो
दुखद मृत्यु  को प्राप्त हो सकता है !!!
http://swasaasan.blogspot.com/2013/04/philosophy-on-lave.htmlhttp://swasaasan.blogspot.com/2013/04/philosophy-on-lave.htmlhttp://swasaasan.blogspot.com/2013/04/philosophy-on-love.html

गुरुवार, 4 अप्रैल 2013

चर्चित तीर

SwaSaSan Welcomes You...

 
6.
'नमो' एवं 'रा. स्व. से. सँ' दोनों की राष्ट्रवादिता,
 अब तक उपलब्ध में श्रेष्ठतम है ...
एकमात्र एवं बहुत बडी खामी के साथ्   
(चर्चित दृष्टी में)
 कि विरोधी विचारधारा के उठते स्वर का परिहार
स्वर के श्रोत को ही मिटाकर कर देना .…
चुनावों के मौसम में मोदीजी भी  ….
 कांग्रेसियों का अनुसरण करते दिख रहे हैं ?
यथा कांग्रेसियों को केवल तीन पूर्व प्रधानमन्त्री ही उल्लेखनीय लगते हैं ….
मोदीजी को बस एक …
कांग्रेसियों को केवल
कांग्रेस शासित प्रदेश
अग्रणी दिखते हैं
मोदीजी को
केवल (भाजपा शासित में से भी) गुजरात ?
.
यदि लम्बे समय तक
लगातार शासन कर पाना ही विशेषता है
तो केंद्र के लिए कौन अधिक योग्य ???
.
 'स्व-सा-सन' अनुसार
विभिन्न उत्कृष्टता मानदंडो पर मापने पर
अब तक के सर्वश्रेष्ठ
भारतीय प्रधान-मंत्री क्रमशः
१-
राजीव गाँधी
(सर्व प्रथम राजनेता जिसने ८५% तक के भ्रष्टाचार
को स्वीकारने का साहस दिखाया ,
दूर करने के उपायों के रूप में
कम्प्यूटरीकरण की जिद्दी शुरुआत की,
आधार कार्ड की आधारशिला रखी,
 सर्वदलीय सहमती की विचारधारा की शुरुआत की )
२- लालबहादुर शास्त्री
(बहुत छोटा सा कार्यकाल किन्तु देश को
खाद्यान्न आत्मनिर्भरता की ठोस अवधारणा का सूत्रपात किया )
३- इंदिरा गाँधी
(दो निर्भीक महत्वपूर्ण कदम
बांग्लादेश का  निर्माण ,
पाक प्रोत्साहित सुलगते पंजाब में आतंकवाद का दमन,)
(-बड़ी भूल  आंतरिक आपातकाल -)
४- अटल बिहारी बाजपेयी
(उचित समय पर ग्रामीण क्षेत्रों को सड़क मार्ग उपलब्ध कराने प्रधानमंत्री सड़क  योजना,
शिक्षा को आन्दोलन के रूप में उभरने के प्रयास )
५- मनमोहन सिंह
(आम आदमी के हित में सर्वाधिक बड़े और कड़े फैसले लेने में साहसिक सफलता
.क- डायरेक्ट ट्रान्सफर स्कीम की शुरुआत,
ख. - दुनियाँ भर में आयी आर्थिक मंदी से
देश को न्यूनतम प्रभावित होने देने में सफल
ग.- घरेलु गैस पर सब्सिडी सीमित करने का कदम,
घ.- खाद्यान्न सुरक्षा योजना )
च.- भूअधिग्रहण अधिनियम   .
वर्तमान मुख्य मंत्रियों
  में-
१- शिवराज सिंह
(प्रदेश कि विकास दर - 04 से शुरु कर 10 के ऊपर तक पहुचाने मे
विवाद रहित प्रशासन के साथ् सफल !
कारण रहे लोक सेवा गारंटी जैसे विषिष्ट कार्यक्रमों का प्रस्तुतीकरण,
भ्रष्टाचारी अधिकारियों के विरुद्ध कार्यवाही कि त्वरित अनुमति,
साम्प्रदायिक भेदभाव रहित शासन 
किसी पूर्व शासक द्वारा प्रारम्भ की योजना को बन्द नहीं किया गया,
विपक्षी केन्द्र शासन की जनहित कारी योजनाओं को परहेज रहित लागू किया जाना आदि ! )
२- नीतिश  कुमार
(गुण्डाराज के लिए विश्व प्रसिद्ध बिहार को विकास के लिए प्रसिद्ध बनाने में सफल)
३- नरेन्द्र मोदी
(गुजरात की प्रसिद्धि भी सारे विश्व में पिछले 100 बर्षो से अधिक से है!
इसीलिए गुजरात का थोडा और विकास ऊपर  लिखे प्रदेशों की तुलना में  कम किन्तु महत्व्पूर्ण .
नवोन्मेशी योज्नाओं यथा नहरों के खुले हिस्से पर
सोलार पेनल लग्वाने जैसी योजना का लागू करवाना आदि. )
४- शीला दीक्षित
(सारे भ्रष्टाचार के आरोपों के बाबजूद दिल्ली महानगर को
दुनियाँ से विश्व-स्तरीय मनवाने योग्य बनाने मे सफल!
अभी अभी मीडिया द्वारा दिल्ली चुनावों के मद्देनजर कराए सर्वे में
तमाम आरोपों के बाबजूद  सर्वप्रथम )
5.- विजय बहुगुना
(चुनाव जीतकर आते ही महाविनाश से सफल्ता पूर्वक सामना )
-----------
5
१- विकीलीक्स का खुलासा है कि
राजीव गांधी एक इटालियन कंपनी के एजेंट थे,
मगर उस कंपनी को ठेका दिलाने में असफल रहे! 
२- इंदिरा गांधी ने जुल्फकार अली भुट्टो को
परमाणु तकनीकी देने  की पेशकश का पत्र भेजा था ....
चर्चित तीर
"यानी विकिलीक्स भी कांग्रेस का प्रचार कर रही है
क्योंकि इन खुलासों से तो कांग्रेस
और इंदिरा गांधी की उच्च गुणवत्ता प्रदर्शित होती है !
१-माँ के प्रधान मंत्री रहते हुए भी एजेंट बेटे राजीव की दाल नहीं गली ....
२.- विरोधी पडौसी किसी दुसरे की शर्तों का दास होने से
 अच्छा था की वह हमारा विरोधी ना रहता और कृतज्ञ होता ....
---------------------


4. 
सोशल मीडिया पर लोग अक्सर नेताओं को 
ईमानदारी का पाठ पढ़ाते मिल जाते हैं
मगर जब चुनाव आता है तो खुद उन्ही भ्रष्टाचारियों को
वोट और सपोर्ट करते हैं!!!
...
चर्चित तीर  
'इसे ही कहते हैं
"पर उपदेश कुशल बहुतेरे
जे आचरहिं ते नर ना घनेरे"
(इस विषय पर विस्तारसे पढ़िये
इसी ब्लॉग पर अन्यत्र http://swasaasan.blogspot.com/2012/08/2013-14.html )http://swasaasan.blogspot.com/2013/04/blog-post.html



३.
कहते हैं 'बड़े भैय्या अम्बानी' का निवास 
"अंटालिया" दुनियां का सबसे मंहगा घर है!
......
चर्चित तीर 
" जय हो 'बड़े भैया' 
जय हो 'मोदी चाचा'     
जय हो 'बडेरा जीजू'
आप लोगों के कारण बाहरी दुनिया वालों की 
'ग़लतफ़हमी'  तो दूर होगी ....
मूर्ख भारत को "गरीबों का देश" समझते हैं !!!
............................

२.
कहते हैं भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड दुनियां का सबसे धनी 
खेल बोर्ड है!
....
चर्चित तीर
" चलो जुए से हो, सट्टे से  या खेल से ... 
हम दुनियां के सबसे रईस तो हुए !!!
............................

१.
गडकरी जी की कंपनियों पर  विगत दिनों गंभीर आरोप लगे ....
भा ज पा के एक वरिष्ट नेता का वक्तव्य था 
"पार्टी अध्यक्ष को उद्योग लगाना उचित नहीं ..."
......
चर्चित तीर
बिलकुल सही कहा नेताजी ने ....
जब इतनी बड़ी राजनैतिक पार्टी के अध्यक्ष थे 
तो कुछ और करने की जरूरत ही कहाँ थी !!!
....................

वक्त बेवक्त घटती घटनाएं सोचने पर मजबूर करती रहती हैं 
कभी अपने आप ही चुटीला चटकारा मुंह पर आ जाता है ....




Translate