समर्थक

बुधवार, 30 दिसंबर 2015

गुरु - एक विचार

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् ...
गुरु - एक विचार
"गुरु" वह विचार है जो अनुचित और उचित का अंतर बताता है!
जिस व्यक्ति, पुस्तक या आख्यान से
आपके अब तक के अनुत्तरित प्रश्न का उत्तर मिल सके
या जो अनौखा प्रश्न प्रस्तुत करे
वह ही गुरु है
इससे इतर और कुछ नहीं !
निश्चय ही माता-पिता सबके प्रथम गुरु हैं
फिर अक्षर ज्ञान दाता से लेकर हर वह व्यक्ति
जिसने जब कभी आपके अनुत्तरित प्रश्न का समुचित उत्तर दिया हो
वह गुरु ही तो है!
गुरु यानी ज्ञान का भंडार

मंगलवार, 22 दिसंबर 2015

काम हम भी आये थे!

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् ....
साँस दर साँस
लम्हा दर लम्हा
दो जिस्म एक जान
की तरह जीते-जीते 
एक दिन अहसास हुआ
भ्रम है यह!
जिस्मों की ही तरह
जानें ही अलग ना थीं
जुदा तेरे ख्वाब भी थे !
 फिर भी हमारी लाचारी 
अपनी उम्र सारी
तेरे ख्वाबों की ताबीर हम तराशा किये!
तेरे हर सुनहरे ख्वाब में,
खुद का पैबंद

शुक्रवार, 18 दिसंबर 2015

सम्हलता कहाँ है

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् ....
सुबह तो हो जाये मगर
 वो जागता कहाँ है?
भूल फितरत इंसां की,
 इंसां मानता कहाँ है?
मन में जीवित हो यौवन
तो कभी ढलता कहाँ है ?
यौवन में युवमन सम्हाले
किसी से सम्हलता कहाँ है ?
#सत्यार्चन
..... अपेक्षित हैं समालोचना / आलोचना के चन्द शब्द...

ऐसे अब जज्बात कहाँ?

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् ....

जलते शोलों को लिख पायें
शब्दों की औकात कहाँ?
कह डालें अनकहे बोल सब
ऐसे अब जज्बात कहाँ?
बिन बोले कह दें
सुन लें गुन लें
#सत्यार्चन 
..... अपेक्षित हैं समालोचना / आलोचना के चन्द शब्द...

बुधवार, 16 दिसंबर 2015

इतराया किये उम्रभर ....

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् ....
आशना थे वो अक्स के
ना समझे थे...
हम दर्पण थे ,
बेवजह ही हम,
गिर के टूटे, एक बार
हो चूर-चूर  बिखर गये ....
अब रास्ते की धूल हैं... 
राहगुजर ये उनकी हैं
गुजरते हैं वो हमें छूकर
इतराने का एक और नया
बहाना हमको मिल गया!!!
आशना थे वो अक्स के
ना समझे थे...
हम दर्पण थे ,
..... अपेक्षित हैं समालोचना / आलोचना के चन्द शब्द...

हक मांगने की जुर्रत...

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् ....
किस्मत में क्या लिखा उसने,
कहकर भी सुना दिया....
मूश्किलों से मत डरना !
हक के लिये, सदा लड़ना!!
जो चाहोगे पा जाओगे!!!!
जिद, जिद की तरह करना!!!!!
हम डरे नहीं ... हम गिरे नहीं ...
पर जिद हो सकी ना कभी हमसे ...
#सत्यार्चन
..... अपेक्षित हैं समालोचना / आलोचना के चन्द शब्द...

शनिवार, 12 दिसंबर 2015

बर्दाश्त

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् ....
बर्दाश्त
नाकामयाब इश्क का, इक ये भी असर हुआ
दुनियां के बड़े आशिकों में, नाम अपना भी शुमार है!
.
मेरे दर्द से तू गाफिल हो, बर्दाश्त से बाहर था
अच्छा हुआ खतावार मेरे, दर्दीले अहसास ही निकले!
.
मेरे दर्द से बेखबरी तेरी, हो ही नहीं सकती थी
इसीलिए अहसासों को ही, सूली टाँग दिया हमने!
.
मेरी जहीनियत के रास्ते, पीर, तेरे मुकाम तक पहुँचे होंगे 
बेवजह इल्म भला, किसे हासिल हुआ है अब तक! 
.
पहले-पहल का दर्द, हमें भी, बहुत सताया किया
अब दर्द के सितारों से मेरा, दामन रोशन हुआ करता है!
.
इश्क हर किसी को हो, सब आशिकी करें
कामयाब इश्क होगा या कामयाब शख़्सियत!
.
..... अपेक्षित हैं समालोचना / आलोचना के चन्द शब्द...

मंगलवार, 8 दिसंबर 2015

वो रब सा हो गया है

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् ....
वो जबसे जुदा हुआ
रब सा हो गया है!
  दीद उसकी नामुमकिन
पर होने की आस तो है!
 साथ उसका होना नामुमकिन...
फिर भी अहसास तो है!
निगाह-ए-करम बहुत मुश्किल
 अनबुझी मगर मेरी प्यास तो है!
 मेरा वजूद है इस ख्याल से कि
वो कहीं आसपास तो है!
‪#‎Sathyarchan‬
..... अपेक्षित हैं समालोचना / आलोचना के चन्द शब्द...

रविवार, 6 दिसंबर 2015

नजरों में चुभने लगते हैं

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् ....

जख्म जब फूलों से सज जायें ....
दर्द खुशबू बन बिखेरने लग जायें ....
दर्द जो दिल में आकर बस जायें !!!
-
#सत्यार्चन
..... अपेक्षित हैं समालोचना / आलोचना के चन्द शब्द...

अपनी अस्मिता को मरते देख ...

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् ....
भारत
अग्रगामी रह विश्व के लिये अनकरणीय रह
गौरवांवित होता रहा है
किन्तु आज,
साहित्य सहित सभी क्षेत्रों में
हम अन्योन्य का केवल अनुकरण कर रहे हैं ....
अपनी अस्मिता को मरते देख दर्द तो होगा ना .....
क्षमा!
- ‪#‎सत्यार्चन‬
..... अपेक्षित हैं समालोचना / आलोचना के चन्द शब्द...

गमगीनी की लत

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् ....
है सबसे खराब यारो....
चंद बोतलों को तोड़कर,
शराब से तो निजात है.....
पर जिंदगी निचोड़कर भी
गम छोड़ता नहीं.......
- ‪#‎सत्यार्चन‬

..... अपेक्षित हैं समालोचना / आलोचना के चन्द शब्द...

शुक्रवार, 4 दिसंबर 2015

दायित्व या कृतघ्नता! क्या उचित है ?

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् ....
भारत की स्वतंत्रता और फिर स्वावलंवन
के संघर्ष में स्वयं को आहूत करने वाले
स्वतंत्रता साकार के दीवानों
के दुर्दांत जीवन और फिर अधिकांश की
अकिंचन सी मृत्यु पर
 हँसी ही आ रही हो तो 
तो फिर से विचार करें कि

गुरुवार, 3 दिसंबर 2015

दर्पण था तब

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् ....
दर्पण था तब मैं ना समझ था...
वो आशना थे अक्स से
 इतराया किये हम उम्रभर ....
इक बार गिर के टूटा
तो बिखरा चूर हो लिया .... ...
अब रास्ते की धूल हूँ...
औ'
गुजरते हैं, इधऱ से वो
एक बार फिर,
इतराने की
वजह मिली है मुझको!!!
- ‪#‎चर्चित_चित्रांश‬

..... अपेक्षित हैं समालोचना / आलोचना के चन्द शब्द...

SwaSaSan: क्या सही और क्या गलत

SwaSaSan: क्या सही और क्या गलत: स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् .... -:  क्या सही और क्या गलत :- हम सभी निर्देशों से संस्कारित होकर समझदार होते हैं! मजेदार बात यह ...

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् .... ..... अपेक्षित हैं समालोचना / आलोचना के चन्द शब्द...

क्या सही और क्या गलत

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् ....
हम सभी निर्देशों से संस्कारित होकर समझदार होते हैं!
मजेदार बात यह है कि इनमें से अधिकांश निषेधात्मक निर्देश होते हैं!
जिनमें प्रमुख है 
ऐसे मत '.....' करो
रिक्त स्थान में शब्द वाक्यांश भरते जाइये 
ऐसे मत 'बैठा' करो
ऐसे मत 'चला' करो
ऐसे मत 'बोला' करो
ऐसे मत 'लेटा' करो
ऐसे मत 'सोचा' करो
आदि-इत्यादि....
जब हम स्वयं विवेकवान हो चुके होते हैं

SwaSaSan: बड़े घर के गलियारे से - 1

SwaSaSan: बड़े घर के गलियारे से - 1: स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् .... बड़े घर के गलियारे से - 1 आदरणीया कलैक्टर किंजल सिंह जी: हरि ओम् ! आपके नियंत्रणाधीन जिले के व...

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् .... ..... अपेक्षित हैं समालोचना / आलोचना के चन्द शब्द...

बुधवार, 2 दिसंबर 2015

बड़े घर के गलियारे से - 1

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् ....
बड़े घर के गलियारे से - 1
आदरणीया कलैक्टर किंजल सिंह जी:
हरि ओम् !
आपके नियंत्रणाधीन जिले के वन विभाग ने, आप पर,  दुधवा सुरक्षित वन में,
वनवासी पशुओं की शांति भंग का आरोप लगाया है!
आपने स्पष्टीकरण भी दिया है किन्तु आपके स्पष्टीकरण से परिलक्षित है कि
आप अपने विभागीय श्रोतों से "उचित उपार्जन" करने में अक्षम रहीं हैं
साथ ही दूसरे विभागों के 'उचितोपार्जन' में भी वाधक बनी हुई हैं!
आपके कार्यकाल में आपके जिले से एवं आप जैसे अर्धसक्षम अन्य कलैक्टरों की अक्षमतावश
 'उचितोपार्जित' रेवेन्यु में नकारात्मक वृद्धि से शासकों को
'शासकोपयुक्त' संसाधनों में कटौती को विवश होना पड़ता है!
आपको सूचित किया जाता है कि आपके विरुद्ध कार्यवाही करने की अनुशंसा करने

मंगलवार, 1 दिसंबर 2015

Meaningful

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् ....
If words were meaningful
n so stronger 
Sight might remained
speechless ever
If all could told,
what to say
expressions might loosen,
their values to lower!!!
#Sathyarchan
..... अपेक्षित हैं समालोचना / आलोचना के चन्द शब्द...

Translate