समर्थक

शनिवार, 12 दिसंबर 2015

बर्दाश्त

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् ....
बर्दाश्त
नाकामयाब इश्क का, इक ये भी असर हुआ
दुनियां के बड़े आशिकों में, नाम अपना भी शुमार है!
.
मेरे दर्द से तू गाफिल हो, बर्दाश्त से बाहर था
अच्छा हुआ खतावार मेरे, दर्दीले अहसास ही निकले!
.
मेरे दर्द से बेखबरी तेरी, हो ही नहीं सकती थी
इसीलिए अहसासों को ही, सूली टाँग दिया हमने!
.
मेरी जहीनियत के रास्ते, पीर, तेरे मुकाम तक पहुँचे होंगे 
बेवजह इल्म भला, किसे हासिल हुआ है अब तक! 
.
पहले-पहल का दर्द, हमें भी, बहुत सताया किया
अब दर्द के सितारों से मेरा, दामन रोशन हुआ करता है!
.
इश्क हर किसी को हो, सब आशिकी करें
कामयाब इश्क होगा या कामयाब शख़्सियत!
.
..... अपेक्षित हैं समालोचना / आलोचना के चन्द शब्द...

कोई टिप्पणी नहीं:

Translate