समर्थक

मंगलवार, 12 जुलाई 2011

Prediction Became True !

SwaSaSan Welcomes You...
This was published on June 24 '11 by me , Yesterday's UNFORTUNATE Rail Accident came as per my 2nd prediction.
First prediction seems to be real between July 17th and 23rd.
The 3rd seems to be real before Dec '11  
Prediction-1 

I am getting signals of some disasters coming towards Indian subcontinent -
1. An Earthquake above label 6 is alarming in subcontinent !
2. An Explosion / Accident / Human Act 
is going to affect 
hundreds of people physically ! 
3. Surprisingly Heads of State/ Nation / Political Parties / Institution or going to substituted !
 

रविवार, 10 जुलाई 2011

ACTUAL INDEPENDENCE !!!

SwaSaSan Welcomes You...
वास्तविक आज़ादी की ओर ...
स्वसासन 
आजाद भारत के हम आजाद नागरिक
केवल मनमानी करने की आज़ादी [???]
को ही आज़ादी ना मानें !
हमारे कुछ बुनियादी अधिकार हैं तो 
कुछ आवश्यक कर्त्तव्य भी !
.
वास्तविक आज़ादी के लिए हमारा जागृत होना आवश्यक है .
स्वसासन इस दिशा में प्रयत्नशील है !
स्वसासन के सुझाव /मांगें / घोषणा पत्र 
कुछ इस तरह हैं -
.
आनलाइन वोटिंग 
.
[ ताकि व्यस्त एवं अनिच्छित वोटर भी आने वोट दे सकें !
यदि वर्तमान सरकार व्यवस्था नहीं कर सकी तो स्वसासन समर्थित सरकार अवश्य करेगी  ]
.
संविधान में आवश्यक उचित संशोधन 
.
[हमारा संविधान उच्च कोटि के प्रावधानों से परिपूर्ण तो है
किन्तु इन के कठोर परिपालन सुनिश्चित करने हेतु अभी भी कुछ सुधार  आवश्यक ]
.
सुचारू शासकीय कार्य सम्पादन  
.
प्रत्येक शासकीय /अशासकीय कार्यालय में कार्यवाही सुनिश्चित करना 
[शासकीय कर्मचारियों का एक बड़ा हिस्सा अपने वेतन को आय का मुख्य  श्रोत  नहीं मानता
ऐसे कर्मचारियों से निजात हेतु
पुलिस अदि विभागों में उचित वेतन,सुविधा, सेवा शर्तें व
  उचित कार्यसम्पादन हेतु तत्पर कर्मियों को ही सेवा लाभ ]
कुशल अधिकारी, कर्मचारी, राजनीतिज्ञ, नागरिक को
बड़े पारितोषिक  की व्यवस्था 
एवं    

भ्रष्ट / असक्षम/ या /लापरवाह  अधिकारी, कर्मचारी, राजनीतिज्ञ, नागरिक को
कड़े दंड की व्यवस्था
.
 सुलभ एवं सुनिश्चित न्याय 
.
न्यायपालिका से १००% सुनिश्चित न्याय
[हजार दोषी छूट जाएँ पर किसी निर्दोष को सजा ना हो !
को बदलकर 
'ना कोई निर्दोष सजा पाए ना कोई दोषी छूट पाए '
पर लाना ]
.
केवल इतने सुधार भी हो जाएँ तो देश दस गुनी तेजी से 
प्रगति पथ पर चल पड़े 
किन्तु बिना आप सबके जागरूक सहयोग के 
ऐसा कोई सुधार नहीं हो सकता !
इन विचारों के समर्थक 
/
नए रचनात्मक सुझावों के स्वामी 
संपर्क कर रूचि प्रदर्शित करें 
/
स्वप्न साकार संघ की सक्रिय सदस्यता लें !
प्रत्येक बिंदु पर विस्तृत अगली कड़ियों में ...

शनिवार, 9 जुलाई 2011

THE TIME MACHINE REVEALED !!!!!!!!!

SwaSaSan Welcomes You...
Believe It Or Not 
BUT.....
THE TIME MACHINE REVEALED !!!!!!!!!
Just Think !!!
If so called Time Machine could made real !
Many of us would like to become King of The Universe !
Many of us would like to fulfill their Ambitions !
Many of us would like to become Master of Rest of The World !
Many of us would like to ruin many others !
Just by pushing a button ! 
NOW ALL ABOVE CAN MADE POSSIBLE !!!
[Excluding harm others ]
but with some limitations ! . 
The Time MachineThis is only a Process of 
Making You By Your Own !
You Can Do With This-
Whatever may your wish !
Visit your Past !
Repair Your Past !
Make Pleasant Your Present !
Make Your Destiny Your Own !!!
SwaSaSan is going to avail all this
on your e-mail at a nominal cast !
Make Haste .....
First 1111 needy will get it @50% Price !
.
Mail To
swasasan@gmail.com
swasasan@yahoo.com

रविवार, 3 जुलाई 2011

न्याय ! कैसा न्याय ???

SwaSaSan Welcomes You...

भारत में न्याय व्यवस्था के विगत उदहारण चीख चीख कर कह रहे हैं 
जनसामान्य शोषण को तैयार रहे !
न्याय केवल वशिष्ठ जनों अथवा धनकुबेरों के साथ किया जाएगा !
उनके अनुसार किया जाएगा !!! 
अभी हाल का नीरज ग्रोवर मामला हो 
या विगत जेसिका लाल ,भारती यादव, प्रोफ़ेसर सभरवाल या कई अन्य मामले 
जिनमें दोषियों को सजा दिलाने में जन आन्दोलन भी असफल रहे !
इस तरह के कई ऐसे मामले हैं जिनमें 
पीड़ित परिवार ने वर्षों तक अपनी हर साँस के साथ निरंतर 
न्याय पाने की कोशिश जारी रखी !
क़ानून कमजोर नहीं है देश का 
Incredible story of social justice in इंडिया
किन्तु भ्रष्ट व्यवस्था के चलते

न्यायालय तक साक्ष्यों को बिना तोड़े मरोड़े नहीं  पंहुचाया जा सकता !
यह सड़ी गली व्यवस्था निकट भविष्य में बदलती नहीं दिख रही !
ऐसे में यदि दुर्भाग्य से कोई आम आदमी पीड़ित होता है 
तो परिजनों को अपनी औकात पहचानते  हुए 
या तो खून के आंसू के घूँट पीकर चुपचाप बैठ जाना चाहिए 
अथवा 
किसी एक परिजन को दोषी को सजा देने / दिलाने का कार्य सोंपकर 
उस परिजन को हर पारिवारिक जिम्मेदारी से मुक्त कर देना चाहिए !
ताकि परिवार का हर सदस्य पलपल तिलतिल कर मरते हुए 
न्याय पाने की मृगमरीचिका में वर्षों तक कई कई बार ना मरता रहे !
   

Translate