समर्थक

Google+ Followers

Follow by Email

बुधवार, 20 नवंबर 2013

-:- सुनो> गुनो> चुनो> बुनो> बनो -:-

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर एवम् अपेक्षित हैं समालोचना/आलोचना के चन्द शब्द...


-:- सुनो~> गुनो~> चुनो~> बुनो~> बढ़ो~>बनो -:-

सफलतम् व्यक्तियों ने भी
 अपने जीवन का कुछ ना कुछ भाग
व्यर्थ के कामों अवश्य गंवाया होता है....
(आपने... बस उनसे थोड़ा सा अधिक....)
फिर भी वे सफलतम में गिने गये!
विश्वास रखिये
आप उनसे भिन्न नहीं हैं!
सफल होना
सफलता के नये नये शिखरों को चूमना
इस पर निर्भर करेगा कि
आप कब जागे
जागने का एक तरीका यह भी है कि
आपको जगाने के लिये
आती हुई हर आवाज को सुना जाये
ध्यान से सुना जाये
जो सुना गया है
उसपर पूरे मन से
पूर्ण निष्पक्षता से
विचारा जाये
गुना जाये
गुनकर उपयुक्त अनुपयुक्त
का निर्धारण कर
उपयुक्त को चुना जाये
जो चुना है
उसपर चलने से पहले
बिभिन्न विकल्पों को विचारा जाये
श्रेष्ठतम विकल्प को योजनाबद्ध किया जाये
बुना जाये
फिर सधे हुये कदमों से
सफलता के पथ पर
बढ़ जाया जाये
बन जायें जो चाहें....
बहत आसान है
बस सुनने की आदत डालनी होगी
छोटी बड़ी आवाजों को.....



एक टिप्पणी भेजें

Translate