समर्थक

बुधवार, 8 जुलाई 2015

मेरे दोस्त.....

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर... एवम् अपेक्षित हैं समालोचना/आलोचना के चन्द शब्द...
मेरे दोस्त.....
जी चाहता है
मिल जाओ तुम
यकायक कहीं मेले में
लिपट जाओ आकर मुझसे
फिर सोचता हूँ...
ना हो ऐसा कभी
जीवन भर....
तेरे-मेरे पवित्र रिश्ते की
समझ कहां है दुनियां वालों में भला!
तुझसे मिलना मेरी चाहत तो है पर
तेरी खुशहाली को आँच आये ना कहीं....
ना आये कभी तू फिरसे 
यही दुआ है मेरी
रब से दिल से!!!
-चर्चित

कोई टिप्पणी नहीं:

Translate