समर्थक

Google+ Followers

Follow by Email

गुरुवार, 5 नवंबर 2015

पराये धर्म के अपने और मेरे अपने धर्म के पराये....?

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर... एवम् अपेक्षित हैं समालोचना/आलोचना के चन्द शब्द...

पराये धर्म के अपने और मेरे अपने धर्म के पराये....?


 मेरे अपने तो मेरे दिल में बसा करते हैं
फिर अपनों के अपने दूर कैसे रहते?
मेरे अपनों में परिजन से प्रिय हुए
मेरे - कुल, जाति, धर्म, घर, मोहल्ले, शहर, प्रांत, देश...
और पूरी दुनियां के लोग
मैं विस्तृत हुआ धीरे-धीरे
मैं से 'हम-दोनों' में
फिर 'हम-चार' से 400 में, 4,00,000 में
फिर बढ़ते-बढ़ते
कुछ करोड़ मेरे धर्म के
दुनियां भर में फैले हुए लोगों तक
विस्तृत हुआ मैं
गैरों से अपनों के हक की लड़ाई मेरा मकसद बना
एक बार
मेरे अपनों की सीखों पर
एक गैर से वाद-विवाद हुआ
उसने पूछा कि -
क्या तुम्हारे लोग तुम्हारे अपनों की
सीखों पर ही चलते आये हैं ?
क्या कंस, रावण, हिरणाकुश तुम में से एक ना थे?
क्या रावणों, दुर्योधनों के ज्ञात-अज्ञात कुलवंशज
तुम्हारे बीच नहीं हैं आज ?
या खुद तू जो इतना बलबला रहा है
इनमें से किसी का खून नहीं कैसे कह सकता है?
मैं मौन हो सिर झुकाये सुनता रहा....
मन ही मन गुनता रहा ...
मेरे रावण, कंस, दुर्योधनों से
बहुत ऊपर हैं
महान हैं
वे गैर जिन्हें जाना नहीं अबतक मैंने!!!
अब लगता कल तक
मैं
शायद अखिल ब्रम्हांड में
व्याप्त हो जाउंगा
सबमें स्वयं को
और स्वयं में सबको पाउंगा.....
‪#‎सत्यार्चन‬
एक टिप्पणी भेजें

Translate