समर्थक

Google+ Followers

Follow by Email

रविवार, 22 नवंबर 2015

स्वागत् है आपका SwaSaSan पर
कौन जाने,
किस-किस दरिया में,
समंदर सा जोर हो....
पर मौजों सा टकराने वाला,
बताओ, गर दूजा किसी ओर हो!!! ...
-
‪#‎सत्यार्चन‬
... एवम् अपेक्षित हैं समालोचना/आलोचना के चन्द शब्द...
एक टिप्पणी भेजें

Translate