समर्थक

शुक्रवार, 25 फ़रवरी 2011

........नादाँ थे हम.........

swasasan team always welcomes your feedback. please do.
...........................................................................................................................................................................
........नादाँ थे हम......... 
........................................................................................................
कुछ अजीबोग़रीब सी जिंदगी जी हमने !
  पत्थरों से भी उम्मीद-ए-वफ़ा की हमने !
.
वो जिन्हें शऊर नहीं आदाब-ए-महफ़िल का,
दाबत-ए-बज़्म उन नामाकूलों को ही दी हमने !
.

सूखे दरख्तों के फिर पत्ते हरे नहीं होते, 
आरज़ू -ए-गुल बेवजह ही की हमने !
.
वतन परस्ती से नहीं दूर तक नाता जिनका,
कमान-ए-वतन उन्हें खुद ही थी दी हमने !
.
फिरकापरस्ती है शौक-ओ-शगल जिनका,
दरख्वास्त-ए-अमन खुद उनसे ही थी की हमने !
.
क़ाबिज किये हर साख पे उल्लू खुद उनने,
निगरानी-ए-चमन जिन्हें कभी थी दी हमने !
.
अब हक-ए-फ़रियाद से भी शर्मिन्दा उनसे,
गफलत में  हुक्मरानी जिन्हें खुद सौंप दी हमने !
............................................................................................................................................................................... 

कोई टिप्पणी नहीं:

Translate